AAP End

#MCD इलेक्शन के बाद #AAP खत्म...!"
कल देर रात ये संदेश भेजा गया।
वैसे सोचना ज़्यादा मुश्किल न था कि AAP खत्म होगी तो क्या करेंगे.??
◆ अरविन्द और सुनीता जी तो सिविल सर्विस से रिटायर्ड हैं, मजे से मोटी पेंशन और सुविधाएँ लेकर मौज करेंगे, पूर्व मुख्यमंत्री को मिलने वाली सुविधाएँ अलग से।
◆ विदेश में सुख-सुविधाओं वाला जीवन और लाखों रुपये साल की नौकरियाँ छोड़कर आये आदर्श शास्त्री, दिलीप पांडे जैसे लोग वापस उसी चमकती दुनिया में लौट जाएंगे।
◆ सत्येंद्र जैन और राघव चड्ढा जैसे डॉक्टर और वकील अपनी प्राइवेट प्रैक्टिस पर ध्यान देंगे, कैरियर और पैसा दोनों बनाएंगे।
◆ मनीष और आशुतोष अपना प्रिय काम करेंगे, लेख-वेख लिखेंगे। अनुभवी पत्रकार के लिए वैसे भी आजकल पैसे और शोहरत के अवसर बेशुमार हैं।
◆ AAP के लाखों कार्यकर्ता अपनी निजी जिंदगी, परिवार, रिश्तों और जीविका को ज़्यादा समय देंगे, जीवन को और समृद्ध और खुशहाल बनाने की कोशिश में।
अब सवाल #दिल्ली के #वोटर से कि आप क्या करेंगे..???
■ दोबारा से बिजली का भारी-भरकम बिल देंगे?
■ पानी, जो जीवन की मूलभूत आवश्यकता है, उसकी अंट-शंट कीमत चुकाएंगे?
■ सरकारी अस्पतालों के चक्कर लगा-लगाकर, आखिरकार माथा पीटकर प्राइवेट अस्पतालों का रुख करेंगे और अपनी जेब कटवाएंगे?
■ पहले की तरह पच्चीस-तीस चक्कर लगाकर पानी, बिजली, सड़क, निर्माण संबंधी शिकायतों, अनुमतियों और सुनवाई के लिए रिश्वत देना फिर से शुरू करेंगे?
■ अच्छे स्कूलों के लिए धक्के खाएँगे और प्राइवेट स्कूलों के मनमाने दामों को अपनी तिल-तिल की बचत से चुका कर बच्चे का दाखिला करवाएँगे और फीस भरेंगे?
■ चार कदम दूर के #मोहल्ला_क्लिनिक को भूल कर फिर से पाँच-दस किलोमीटर की दौड़ लगाएँगे? वो भी ये शक मन में लिए कि अस्पताल में मरीज को सही डॉक्टर और इलाज मिलेगा भी या आधी से ज़्यादा दवाइयाँ और टेस्ट्स बाहर करवाने पड़ेंगे।
■ पुराने ढर्रे पर लौटते सरकारी स्कूलों में बच्चों को भेजेंगे?
■ अस्थायी शिक्षक और मज़दूर अपनी न्यून्यतम मजदूरी दोबारा घटवा लेंगे?
■ व्यापारी रेड-राज के खौफ में फिर से जीना पसंद करेंगे?
पोस्ट पढ़कर शायद समझ आया हो कि comfort zone में कौन जाएगा।
आपका वोट तय करेगा कि आपकी, AAP की और हमारी दिशा और दशा क्या होगी...
...तो वोट ज़रूर कीजियेगा...:) भूपेन्द्र शर्मा

-- 

Comments